मेरी शादी करवा दो

 
loading...

दिल की कोमल उमंगों को भला कोई पार कर सका है, वो तो बस बढ़ती ही जाती हैं। मैंने भी घुमा फिरा कर माँ को अपनी बात बता दी थी कि मेरी अब अब शादी करवा दो।

माँ तो बस यह कह कर टाल देती… बड़ी बेशरम हो गई है… ऐसी भी क्या जल्दी है?

क्या कहती मैं भला, अब जिसकी चूत में खुजली चले उसे ही पता चलता है ना ! मेरी उमर भी अब चौबीस साल की हो रही थी। मैंने बी एड भी कर लिया था और अब मैंने एक प्राईवेट स्कूल में टीचर की नौकरी भी करती थी। मुझे जो वेतन मिलता था… उससे मेरी हाथ-खर्ची चलती थी और फिर शादी के लिये मैं कुछ ना कुछ खरीद ही ही लेती थी। एक धुंधली सी छवि को मैं अपने पति के रूप में देखा करती थी। पर ये धुंधली सी छवि किसकी थी।

पापा ने सामने का एक कमरा मुझे दे दिया था, जो कि उन्होने वास्तव में किराये के लिये बनाया था। उसका एक दरवाजा बाहर भी खुलता था। मेरी साईड की खिड़की मेरे पड़ोसी के कमरे की ओर खुलती थी। जहाँ मेरी सहेली रजनी और उसका पति विवेक रहते थे। शायद मेरे मन में उसके पति विवेक जैसा ही कोई लड़का छवि के रूप में आता था। शायद मेरे आस-पास वो एक ही लड़का था जो मुझे बार बार देखा करता था सो शायद वही मुझे अच्छा लगने लगा था।

कभी कभी मैं देर रात को अपने घर के बाहर का दरवाजा खोल कर बहुत देर तक कुर्सी पर बैठ कर ठण्डी हवा का आनन्द लिया करती थी। कभी कभी तो मैं अपनी शमीज के ऊपर से अनजाने में अपनी चूत को भी धीरे धीरे घिसने लगती थी, परिणाम स्खलन में ही होता था। फिर मैं दरवाजा बन्द करके सोने चली जाती थी। मुझे नहीं पता था कि विवेक अपने कमरे की लाईट बन्द करके ये सब देखा करता था। मेरी सहेली तो दस बजे ही सो जाती थी।

एक बार रात को जैसे ही सोने के लिये जा रही थी कि विवेक के कमरे की बत्ती जल उठी। मेरा ध्यान बरबस ही उस ओर चला गया। वो चड्डी के ऊपर से अपना लण्ड मसलता हुआ बाथरूम की ओर जा रहा था। मैं अपनी अधखुली खिड़की से चिपक कर खड़ी हो गई। बाथरूम से पहले ही उसने चड्डी में से अपना लण्ड बाहर निकाला और उसे हिलाने लगा। यह देख कर मेरे दिल में जैसे सांप लोट गया, मैंने अपनी चूत धीरे से दबा ली। फिर वो बाथरूम में चला गया। पेशाब करके वो बाहर निकला और उसने अपना लण्ड चड्डी से बाहर निकाला और उसे मुठ्ठ जैसा रगड़ा। फिर उसने जोर से अपने लण्ड को दबाया और चड्डी के अन्दर उसे डाल दिया। उसका खड़ा हुआ लण्ड बहुत मुश्किल से चड्डी में समाया था।

मेरे दिल में, दिमाग में उसके लण्ड की एक तस्वीर सी बैठ गई। मुझसे रहा नहीं गया और मैं धीरे से वहीं बैठ गई। मैंने हौले हौले से अपनी चूत को घिसना आरम्भ कर दिया… अपनी एक अंगुली चूत में घुसा भी दी… मेरी आँखें धीरे धीरे बन्द सी हो गई। कुछ देर तक तो मैं मुठ्ठ मारती रही और फिर मेरी चूत से पानी छूट गया। मेरा स्खलन हो गया था। मैं वहीं नीचे जमीन पर आराम से बैठ गई और दोनो घुटनों के मध्य अपना सर रख दिया। कुछ देर बाद मैं उठी और अपने बिस्तर पर आकर सो गई।

सवेरे मैं तैयार हो कर स्कूल के लिये निकली ही थी कि विवेक घर के बाहर अपनी बाईक पर कहीं जाने की तैयारी कर रहा था।

“कामिनी जी ! स्कूल जा रही हैं?”

“जी हाँ ! पर मैं चली जाऊँगी, बस आने वाली है…”

“बस तो रोज ही आती है, आज चलो मैं ही छोड़ आऊँ… प्लीज चलिये ना…”

मेरे दिल में एक हूक सी उठ गई… भला उसे कैसे मना करती? मुस्करा कर मैंने उसे देखा- देखिये, रास्ते में ना छोड़ देना… मजिल तक पहुँचाइएगा !

मैंने द्विअर्थी डायलॉग बोला… मेरे दिल में एक गुदगुदी सी उठी। मैं उसकी बाईक के पास आ गई।

“ये तो अब आप पर है… कहाँ तक साथ देती हैं!”

“लाईन मार रहे हो?”

वो हंस दिया, मुझे भी हंसी आ गई। मैं उछल कर पीछे बैठ गई। उसने बाईक स्टार्ट की और चल पड़ा। रास्ते में उसने बहुत सी शरारतें की। वो बार बार गाड़ी का ब्रेक मार कर मुझे उससे टकराने का मौका देता। मेरे सीने के उभार उसके कठोर पीठ से टकरा जाते। मुझे रोमांच सा हो उठता था। अगली बार जब उसन ब्रेक लगाया तो मैंने अपने सीने के दोनों उभार उसकी पीठ से चिपका दिये।



loading...

और कहानिया

loading...


Online porn video at mobile phone


hindi sexykahaniy mosihindi antarvasna hindiकहनी चुत काम कथा.काम गुरुपwahibox.22antrvasnahindekhanemera jawan bhie srxy urdu khanibhikharan ki chuchi se tapakta kahani kamuktahindisexsxx hindiwww.garryporn.tube/page/%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BE-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%B2-%E0%A4%B2%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A5%87%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A5%80-%E0%A4%B5%E0%A5%80%E0%A4%A1%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A5%8B-%E0%A4%B9%E0%A4%A6-70747.htmldesi girl antervasna storisantarvasna latest storyhindi sax storeyhindisxestroycudai video chut me lund maslane kisexstories in bengaliटनाटन बुर नौकरानी कीboobsphotokahanibhabi ko jamkar chodabahanbhaisexstorieshindisxestroyboobsphotokahaniantrvasnasaxstories.comharyanvi sex storyAntratvasna devar ji ka mota landsex stori saram adla badli didi aor bibi kisexy hindi marathi storyबहु की षेकश कहानीdesi girl antervasna storissex with beardman kahani hindiwwwantervasanhinde.comantarvasnadarमामा पापा झवझवी कथाdesi girl antervasna storismerigangbangchudai.comsbita bhabi.comhindisxestroydeshibabhisexyhindesixy.comwww.kahanichudasimaa.comसेक्सी चुदाई कहानी दादा पोती राजशरमामाँ की ब्रा आहाहाहाantarvasna hindi pinkipoojahinde antavasna kahanyasexxxxshobhaअंधे जेठ ने की चुदाईnew sex hindi setori new dasi sexindian sexy storimarathisex storydesi girl antervasna storisantervasana hindi sex kahaniya sasur ji www हिंदी madtram kahaniya बीबी की चुदाई विदेश मुझे .comboobsphotokahanierotic hindi sexचोदाई पडोसन कि बाथरम मेchodai bharpurxxxhindi me antarvasnahini maa bht kisaxy videosexbuaa.bhatijeindain marthi bhadi aati sex xxx videolauda aur bur ki kahani familyसेकसी कहानी जबरजती की चाची की हिदी मे 2018 comAntarwana sex storiessexy chachi needgoli hindi me khanihinde sex khiane nu picantrvasna xxx hindi storywww.xxxpatnichi adla badalisexbharikahaniladkine.kuttekesath.chudai.x.vinsect parivar kamuktaporn hindi me batkarte samy savita bhabhi chudvati samy behan bhai ki sexy storymastaram sex story holi me dost ki bivi ki chudaipados ki bahu ne mujse chudvaya bache ke liye hindi xxx storychoodaiantarwasnaantrvasnasaxstories16Sal kihanee xxxAntrvasana storryपड़ने की कहानी हिंदी में क्सक्सक दोस्त की वहन को चोदाhindisxestroyMa nara kholakar chodawww.sexstoriya.comxxx mummy cigrate piti hai storyhindi saxy stores